यूपी बोर्ड: परीक्षा अगर रद्द होती है तो छात्रों को ऐसे किया जा सकता है पास…

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद राज्य में जल्द ही दसवीं और बारहवीं के प्री-बोर्ड परीक्षा आयोजित करेगी। बोर्ड द्वारा जारी किए गए नोटिस के मुताबिक यह परीक्षाएं 1 जनवरी 2022 से 10 जनवरी तक आयोजित होंगी। इस बार यूपी बोर्ड की 10 वीं और 12वीं की परीक्षाओं में शामिल होने के लिए तकरीबन 52 लाख छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। इसमें 28लाख छात्र दसवीं में तो 24 लाख छात्र बारहवीं की परीक्षा में हिस्सा लेंगे। कोरोना महामारी की वजह से कभी स्कूल खुलते हैं,तो कभी बंद हो जाते हैं। ऐसे में छात्रों की पढ़ाई प्रभावित ना हो,इसके लिए सफलता डॉट कॉम 10वीं और 12वीं के छात्रों को घर बैठे ऑनलाइन क्लासेस उपलब्ध करा रहा है। इन क्लासेस में छात्रों को सभी सब्जेक्ट की तैयारी कराई जाती है ।और आने वाली परीक्षाओं के लिए उन्हें रिवीजन और प्रैक्टिस भी कराई जाती है। इन क्लासेस को ज्वॉइन करने के बाद छात्रों को किसी कोचिंग सेंटर की जरूरत भी नहीं पड़ेगी।

कब तक हो सकती है परीक्षा

उत्तर प्रदेश माध्यमिक के मुताबिक 10वीं और 12वीं के थ्योरी की परीक्षा मार्च के अंतिम सप्ताह में शुरू हो सकती है। जबकि यूपी बोर्ड प्रैक्टिकल की परीक्षाएं फरवरी के तीसरे सप्ताह से शुरू किए जा सकते हैं। जल्द ही इस संबंध में आधिकारिक डेटशीट जारी कर सकती है। गौरतलब है कि राज्य में विधानसभा चुनाव होने हैं इसलिए दसवीं और बारहवीं बोर्ड की परीक्षाएं इन चुनावों के बाद ही आयोजित की जाएंगी।

परीक्षा अगर रद्द होती है तो छात्रों को ऐसे किया जा सकता है पास

कोरोना महामारी के तीसरे लहर की वजह से अगर यूपी बोर्ड दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं को रद्द करती है,तो छात्रों का रिजल्ट बोर्ड पिछले साल के फार्मूले के आधार पर तैयार कर सकती है। गौरतलब है 2021 की बोर्ड परीक्षाओं के रद्द होने के बाद बारहवीं के छात्रों के रिजल्ट में 50प्रतिशत वेटेज कक्षा 10की बोर्ड परीक्षा, 10प्रतिशत वेटेज कक्षा 12 में आयोजित प्री-बोर्ड और 40 प्रतिशत वेटेज कक्षा 11की परीक्षा को दिया गया था। वहीं दसवीं के रिजल्ट के लिए कक्षा 9के अंको को 50प्रतिशत तथा कक्षा 10के प्री-बोर्ड के अंको को 50प्रतिशत वेटेज दिया गया था।

Related Articles

Back to top button