लक्ष्मण के 14 साल तक ना सोने के पीछे का रहस्य जानकर उड़ जाएगी आपकी नींद

रामायण की मान्यताओं के अनुसार जब लक्ष्मण श्रीराम के साथ 14 वर्षों के लिए वनवास गए थे तो 14 सालों तक बिना सोए रात को अपने बड़े भाई और भाभी रक्षा करते थे. 14 वर्षों तक लक्ष्मण जागते रहे थे.

रामायण की मान्यताओं के अनुसार जब लक्ष्मण श्रीराम के साथ 14 वर्षों के लिए वनवास गए थे तो 14 सालों तक बिना सोए रात को अपने बड़े भाई और भाभी रक्षा करते थे. 14 वर्षों तक लक्ष्मण जागते रहे थे. इसके पीछे की कहानी ये है कि, जब लक्ष्मण साथ में जा रहे थे तो उन्होंने निद्रा(Nidra) देवी से वरदान मांगा था कि, 14 वर्षों तक वो श्रीराम की सेवा करेंगे इसलिए उन्हें नींद परेशान न करे. निद्रा देवी ने उनकी ये बात मान ली लेकिन एक शर्त रख दी.

निद्रा देवी(Nidra Devi) ने कहा कि, 14 वर्षों तक आपको नींद परेशान नहीं करेगी लेकिन इसके बदले में आपकी पत्नी उर्मिला को सोना होगा. इसके साथ ही जैसे ही आप अयोध्या वापस लौटेंगे उर्मिला की नींद(Nidra Devi) खुल जाएगी और आपको नींद आ जाएगी. लक्ष्मण ने इस शर्त को मान लिया और वनवास चले गए. जिसके बाद उनकी पत्नी उर्मिला 14 साल तक सोती रहीं.

ये भी पढ़ें – पीयूष अपहरणकांड: चाचा ने ही किया था मासूम भतीजे का अपहरण, हत्या के बाद खेत में दफन कर दिया था शव

रावण के वध के बाद श्री राम, सीता और लक्ष्मण वापस अयोध्या लौट आए और वहां प्रभु श्री राम के राजतिलक की तैयारी होने लगी। उस समय लक्ष्मण जोर-जोर से हंसने लगे। जब लक्ष्मण से इस हंसी का कारण पूछा तो उन्होंने कहा कि सारी उम्र उन्होंने इसी घड़ी का इंतजार किया था कि मैं अब श्री राम का राजतिलक होते हुए देखूंगा, लेकिन अब उन्हें निद्रा देवी को दिया गया वो वचन पूरा करना होगा जो उन्होंने वनवास जाने के पहले दिया था।

दरअसल निद्रा(Nidra Devi) ने उनसे कहा था कि वह 14 वर्ष के लिए उन्हें परेशान नहीं करेंगी और उनकी पत्नी उर्मिला उनके स्थान पर सोएंगी। निद्रा देवी ने उनकी यह बात एक शर्त पर मानी थी कि जैसे ही वह अयोध्या लौटेंगे उर्मिला की नींद टूट जाएगी और उन्हें सोना होगा। लक्ष्मण इस बात पर हंस रहे थे कि अब उन्हें सोना होगा और वह राम का राजतिलक नहीं देख पाएंगे। उनके स्थान पर उर्मिला ने यह रस्म देखी थी।

Related Articles

Back to top button